GranDMasteR
Reaction score
1,390

Profile posts Postings Awards Post Areas About

  • अहंकार” और “संस्कार” में फ़र्क़ है…
    “अहंकार” दूसरों को झुकाकर कर खुश होता है,
    “संस्कार” स्वयं झुककर खुश होता है..! ?
    “ज़िंदगी” की “तपिश” को
    “सहन” किजिए “जनाब”,

    अक्सर वे “पौधे” “मुरझा” जाते हैं,
    जिनकी “परवरिश” “छाया” में होती हैं…।।।
    Main bathunga jrur teri mehfil me magar piyunga nhi kyonki mera gam mita de itni teri shraab me aukat nhi
    Pal Pal Uska Saath Nibhate Hum
    Ek Ishare Pe Dunya Chhor Jate Hum
    Samandar K Beech Me Pohanch Kar Fareib Kya Usne
    Wo Kehte To Kinaare Pe Hi Doob Jate Hum
    Pehle Zindagi Cheen Li Mujh Se,
    Ab Wo Meri Mout Ka Bhi Fadia Uthati Hai,
    Meri Qabar Pe Phool Chadhane Ke Bahane,
    Woh Kisi aur Se Milne Ati Hai..!!!
    सुलगती जिंदगी से मौत आ जाये तो बेहतर है,
    हमसे दिल के अरमानों का अब मातम नहीं होता।
  • Loading…
  • Loading…
  • Loading…
  • Loading…
Top